PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

231 Posts

953 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 1361996

भाजपा का गंगा स्नान …

Posted On 5 Nov, 2017 हास्य व्यंग में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मात्र व्यंग्य …..सत्य बोलना पाप है या पुण्य ……|…… भाजपाई क्या फिर एक बार कार्तिक गंगा स्नान करके पवित्र हो जायेंगे …? गुजरात और हिमाचल चुनाव परिणाम सिद्ध कर देंगे | कहा जाता है की गंगा स्नान से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं अतः हर भाजपाई को गंगा स्नान आवश्यक कर दिया गया है |

…………………….कमल हसन क्या जाने की हिन्दू आतंकवाद कितना ही क्यों न पनप जाये केवल एक मात्र गंगा स्नान से ही हिन्दू पाप मुक्त हो जाता है | पिछले युग मैं केवल ऊंची जाती के ब्राह्मण ही गंगा स्नान ध्यान से पाप मुक्त हो जाते थे किन्तु अब हर हिन्दू चाहे वो पिछले युग का शूद्र ही क्यों न हो गंगा स्नान से पाप मुक्त हो उच्च राजनीतिक पदासीन हो जाता है |

…………………….कमल हसन क्या जाने अब ब्राह्मणो की कुछ नहीं चलती है | ब्राह्मण से अधिक शूद्र ब्राह्मणत्व प् चुके हैं | कमल हसन जी क्या\ जाने…. की भ्रष्टाचार रहित स्वच्छ भारत की परिकल्पना ही सनातन धर्म का आधार है ,जब तक मनुष्य स्वच्छ नहीं होगा वह सनातनी नहीं हो सकता | देवी पूजन ,दसहरा दीपावली से गंगा स्नान सभी पर विचार करें तो आतंकवाद मुक्ति मार्ग ही दिखेगा न की आतंकवाद ………..आतंकवादी रावण ,महिसासुर ,चाण्डा मुंड ,रक्तबीज जैसे राक्षशों के नाश के बाद ही यह सब खुशियां बनाई जाती हैं |

……………………..महानायक जी ,दीपावली की शुभ कामनाओं के साथ जया और ऐश्वर्या सी बहु का वरदान सबको प्रदान करें , ताकि घर संसार मैं सुख शांति समृद्धि कायम रह सके /लक्ष्मी की कामना तो आप कौन बनेगा करोड़पति मैं पूरी कर देते हैं और लक्ष्मी तो चंचला होती है जिसकी स्थिरता कायम रखना कठिन ही होता है ॐ शांति शांति

या देवी सर्व भूतेषु ‘ जया’ रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

……………….विस्वामित्र से क्रोधी एंग्री यंग मेन को शांत लक्ष्मी वर दायक करोड़पति की कामना पूर्ती दायक बना देने वाली जया जी आप प्रसन्न हों और वर प्रदान करें यही सभी की कामनाएं होंगी

……………….कुमार विश्वास जी .हिंदुस्तान की ८० करोड़ गरीब जनता ख्वाबों मैं ही तो जीती है …..कवि की परि कल्पनाओं को ख्वाब मैं परोसकर नेता भुना लेते हैं …मैं भी ख्वाब को साकार देख सुन ही तो रहा हूँ …मुफलिसी की दीवाली …..लोगों के फेंके बचे खुचे पटाखों से , झूठे बसी हो चुके पकवानों और मिठाईयों से …….आभार कुमार विश्वास जी आपकी प्रेरणा से प्रेरित हुआ |

…………………..असली महानायक कौन …..?….
.यह प्रश्न है…….. वो जो कविता या अभिनय का मेहताना लेता है
…………………..या वोह जो धन बैभव और सत्ता मैं जीता है | नेता भी वही होता है और अभिनेता भी वही और अपने कवित्व से और अभिनय से जनता का दिल जीतता जाता है | जनता ख्वाबों मैं डूबती जाती है और राजनेता से सर्वोच्च महानायक शासक बन जाता है |
………………….अब पाठक स्वयं ही समझ सकते हैं असली महानायक कौन सर्वोच्च है |

………………….ख्वाबों का महानायक
….एक वो जो केवल वही अभिनय करता है जो उससे कराया जाता है और उसका पारिश्रमिक ले लेता है | जिसके अभिनय के स्वाद को चखने के लिए पैसा खर्च करना पड़ता है | अभिनय का खेल ख़त्म और पैसा हजम …|

…………………वास्तविक महानायक
दूसरा वो जो अभिनय करता है ,कवि की परिकल्पनाओं को साकार कर देने का आश्वासन इस प्रकार करता है की आम जनता वाह वाही करती है और परिकल्पनाओं के साकार हो जाने मैं डूबकर उसमें भगवन की छवि दीख जाती है | भगवन तो कामनाओं की पूर्ती करें या न करें इसमें संसय हो सकता है किन्तु साक्षात् कामना पूरक महानायक लोकप्रिय हो जाता है | भगवन की आराधना तो सम्पूर्ण जिंदगी तक करने पर भी कामना पूर्ती मैं संसय होता है किन्तु इस इस महानायक की आराधना से कामना पूर्ती इसी जन्म मैं जल्द ही होने के स्वप्न तो मिल ही जाते हैं | ख्वाब तो ख्वाब ही होता है जिसको देखने के लिए कोई पैसा खर्च नहीं करना पड़ता है | एक ऐसा डिजिटली महानायक जो त्वरित कामना पूर्ती ख्वाब दिखाने का दम रखता है जिसको कांग्रेस अपने ७० वर्षों के शासन काल मैं भी नहीं दिखा सकी | जिसका ५६ इंची सीना ही यह आश्स्वस्त कर देता है की ख्वाब जरूर पूरे होंगे |
.
………………..माता पार्वती को कैसा अनुभव होगा जब कोई शिवजी को देवों के देव महादेव से ऊपर किसी को सिद्ध कर दे | अतः कवि स्वरुप से मैं पहिले ही क्षमा स्तुति कर चूका हूँ |
…………………माता जया जी ,एक महानायक जो केवल कुछ चुने हुए भक्तों की तपस्या पर ही प्रसन्न होकर उन्हें करोड़पति होने का ख्वाब साकार होने का सौभाग्य दिखाता है | बाकि हिंदुस्तान की १२५ करोड़ जनता ख्वाब ही देखती खीजती रह जाती है |
वहीँ हमारे ५६ इंची सीने वाले महानायक १२५ करोड़ जनता के दिलों मैं रहते ख्वाब पूरा करने का दम रखते हैं |

…………………सत्यवादी ,संगीत सोम को शिक्षा मिली सत्य बोलना चाहिए झूठ बोलना पाप है राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी भी यही संस्कार देश को दे गए थे | सत्य बोलना यदि पाप नहीं तभी तो अन्य देवों ने उनका अनुसरण किया |
आखिर फिर क्यों एक सत्य बोलने पर पापी सिद्ध करने को तुला है विपक्ष ,और मीडिया | क्या विपक्ष यही चाहता है की युधिष्ठिर की तरह बोला गया भ्रमित सत्य (झूठ)ही बोला जाये …?

………………….क्या अब बच्चों को यही पढ़ाया जाये की सत्य बोलना पाप है ….?
या हरिश्चंद्र एक बार फिर पापी सिद्ध कर दिया जायेगा …? ……
………………..गया गुजरा मलिन विपक्ष है ही कितना उसके कहने से क्या पापी सिद्ध हो जायेंगे ….साथ देने वाले भाजपाई के आलावा अन्य सभी हिन्दुस्तानियों के दिल तो बल्लियों उछाल रहे हैं |……टीवी चैनलों की डिवेट क्या उखड लेगी जबकि जन समर्थन तो कुशल राजनीती से बैग बैग हो रहा है ||.

………………..महाभारत का युद्ध धर्म युद्ध से लड़ना तय हुआ था किन्तु जब कौरवों ने अधर्म से प्रहार करने शुरू कर दिए तो श्री कृष्ण ने धर्म युद्ध के आवरण से अधर्म को धर्म बना महाभारत की जीत को अर्जुन के सम्मुख परोस दिया |……..

………………..इंडिया के दो टुकड़े हुए एक हिंदुस्तान बना तो दूसरा पाकिस्तान …..| पाकिस्तान मुसलमानो को और हिंदुस्तान हिन्दुओं को दिया गया | कांग्रेस ने हिंदुस्तान को इंडिया ही रहने दिया देश को धर्म निरपेक्ष का ओढ़ना उड़ाकर सत्ता कायम रखी |..अब जब हिन्दुओं की भारतीय जनता पार्टी की सरकार बन चुकी है तो कायका कैसा इंडिया ….कैसा धर्म निरपेक्ष ….सब कुछ हिन्दुओं का था और सब कुछ हिन्दू छीन कर रहेंगे ……गड़े मुर्दे उखाड़े जायेंगे ……बुझी राख कुरेदी जाएगी …… सुसुप्त सोये हिन्दुओं को जगाया जायेगा उनके अंदर दर्द पैदा किया जायेगा | अत्याचारी लुटेरों की सभी निशानियां ध्वस्त करनी होंगी | कल बाबरी मस्जिद आज ताज और फिर अगला लक्ष्य ……..?

………………………| हिन्दुओं को अब गायत्री मन्त्र जप करके समाधिस्त नहीं रहने दिया जायेगा उन्हें सदैव दर्द देकर जाग्रत रखना होगा | ॐ ,शांति शांति करके सो जाना उनका धर्म नहीं होगा उन्हें सदैव दर्द की डोज देते रहना होगा | | ताकि हिन्दू जाग्रत रहे ,भारतीय जनता पार्टी का ध्वज सदैव फहराता रहे | जब भारतीय जनता पार्टी सशक्त रहेगी तभी हिन्दू सशक्त होंगे और तभी हिंदुस्तान सशक्त होकर विश्व गुरु बन सकेगा |
जब पाकिस्तान मुसलमानों को सशक्त बना,सशक्त हो रहा है तो क्यों नहीं हिंदुस्तान भी हिन्दुओं के लिए सशक्त बनेगा | अब केवल हिंदुस्तान और पाकिस्तान का ही बोलबाला रहेगा | इंडिया नाम व्यर्थ ही लिया जाता है अतः उसको अंग्रेजों को वापस कर देना चाहिए |

………………………….एक महान संत ने कहा था ,…”मैं तो गधा हूँ ” ….एक कवि भी परिकल्पनाओं मैं जीता है | कभी कभी उसकी परिकल्पनाएं इतनी हृदय स्पर्षी बन जाती हैं कि साधारण जनता उनको सत्य मानकर उनमें ईश्वर की छवि बना लेता है | कवि एक ठग ही होता है | बे सर पैर की परिकल्पनाएं गड़कर राजनीतिज्ञों को दे देता है और राजनेता उसको सहज ही भुना लेते हैं और कवि आत्माभिभोर हो जाता है | राजनेता धन बैभव सत्ता सुख भोगते रहते हैं | कवि क्या जाने की सब कुछ राजनीती है ,चाणक्य नीति है |
…………………………..यही नियति है कवि अलंकारों से साधारण मन को ठगता है और राजनीतिज्ञ कवि की कविताओं से जनता को ……|

…………………………….भक्ति की चरम अवस्था मैं भगवत साक्षात्कार हो चुकने पर योगी को सर्वत्र अपने आराध्य प्रभु ही दीखते हैं | हिन्दू अब योग सिद्ध हो चुके हैं अतः उन्हें बाबरी मस्जिद हो या ताजमहल सर्वत्र राम मय ही लगते हैं यहाँ तक की मुस्लमान भी राम के वंशज ही लगते हैं | धन्य हो भक्ति की चरम योग अवस्था को …| अब हिन्दुओं का मोक्ष्य सन्निकट ही लगता है |

…………………………..हिंदुस्तान की वर्तमान भारतीय जनता सरकार का गैर हिन्दुओं को भी मोक्ष्य हेतु डाक टिकटों मैं रामायण के प्रसंग जारी किये हैं |
भारतीय डाक विभाग द्वारा जारी हिन्दुओं के प्रमुख धर्म रामायण पर आधारित डाक टिकट जारी किये हैं | सीता स्वयम्बर से राजतिलक तक के ११ प्रसंगों पर अलग अलग सचित्र टिकट जारी किये हैं |

…………………………अब पूरी रामायण टिकटों मैं समायी ….
१५ रूपये का राम दरबार …………..
जल्दी ही 100 रूपये के नए नोट मैं राम दरबार नजर आए तो आश्चर्य नहीं होगा |

राम मंदिर बने न बने , विशाल राम मूर्ति तो स्थापित हो ही जाएगी |

………………….सच्चे अर्थों मैं अब केवल हिंदुस्तान मोक्ष्य मार्ग देकर विश्व गुरु बन जायेगा |
………………….राम नाम सत्य है ,और सत्य बोले ‘ताज’ है…ताज पर जितने सत्य हैं बोलते जाओ ….. बस मोक्ष्य

………………….ताज का हिंदुस्तानी अर्थ मुकुट ……और मुकुट केवल भगवन राम के माथे पर ही सुशोभित होता है | मुकुटमय राम दरबार ही मुकुट का असली हक़दार है | यह ज्ञान अब हिंदुस्तान मैं हो चूका है |

…………………..जिन्होंने अपने ही पिता को कैद करके मारा ,ऐसे गद्दारों ,लुटेरों द्वारा शिव मंदिर को तोड़कर बनाये खूबसूरत कब्रिस्तान को डायनेमाईट उड़ा देने का ख्वाब भी देखा तो कभी पूरा नहीं हो सकता | विपक्ष को अब खिसियानी बिल्ली खम्बा नोचे की तरह केवल व्यंग्य करते रहना होगा |…सत्य क्या है और झूट क्या है इसी उलझन मैं अपने सर के बाल नोचते रहना पड़ेगा |

…………………. कवि की तरह अलंकारों से सजा सजा कर राजनेताओं के ताज पर बोले अनमोल सत्य .और उन साहित्यिक सत्यों पर विपक्षी राजनीतिज्ञों की गयी महान साहित्यिक व्याख्याएं ,और इन सब साहित्यिक रचनाओं पर विभिन्न महान टी वी चॅनेल्स की आयोजित की गयी महान चर्चाएं और डिवेट्स इन सब पर क्षण मात्र मैं एक सन्यासी योगी आगरा के ताज मैं झाड़ू फेर गया | टी वी चॅनेल्स सारी कमाई पर भी झाड़ू सा फिर गया |
………………….कहा जाता है की किसी फिल्म मैं जब तक कोई खलनायक नहीं होता कहानी बेकार हो जाती है | अब क्या एक कट्टर हिन्दू ,सन्यासी योगी ऐसे कब्रिस्तान मैं जाकर अपवित्र नहीं हो गया होगा …? …क्या अब पवित्र होने के लिए गंगा स्नान करना पड़ेगा …..?
…………………लेकिन सत्य तो यह है की योगी जी एक महान नायक हैं जिनमें भी महानायक बनने के सभी गुण विद्यमान हैं | एक सन्यासी होकर राजपाठ चलाना कोई छोटा मोटा अभिनय नहीं हो सकता | नारद मुनि की तरह सन्यासी होकर गृहस्थों के जन कल्याण के लिए दिन रात प्रयत्न शील रहना एक कुशल महानायक होना ही दर्शाता है | एक कट्टर हिन्दू सन्यासी होकर भी कब्रिस्तान मैं जाकर राजनीतिक साहित्यकारों के कुटिल सत्यों पर झाड़ू फेर देना भी एक कुशल महानायक के गुण ही दिखता है | सन्यास धर्म त्याग का परिचायक होता है किन्तु एक राजपाठ की भूमिका कुशलता से निभाना एक कुशल महानायक का ही काम हो सकता है |
………………..नाम कुछ और ,धर्म कुछ और कर्म कुछ और यही एक महानायक के गुण होते हैं | महानायक का स्वरुप पल पल बदलता ही रहता है | महा नायक ही तेजोमय से ताज बन चुके को बदलकर मुकुट नाम से शोभायमान कर सकता है |

………………..लेकिन सत्यवादी हरिश्चंद्र एक बार फिर पापी सिद्ध हो गए | राजनीती भी अजीब खेल है सब कुछ झाड़ू फेर गँवा कर भी नाम तो हुआ | राम नाम सत्य तो सिद्ध हुआ |
………………….माता सत्य को धर्म मानने वाले हरिश्चंद्र पापी ही बन जाते हैं अतः हे माता क्षमा करो हे दया मई माँ कुपुत्र भी हूँ अगर बुरा भी बुरी न माता कभी हुयी है |

………………..माता महादेव ,महादेव ही होते हैं ,महादेव भोले भी होते हैं अतः उनके क्रोध को शांत कर मेरी रक्षा करें | |

………………….राम राज्य मैं ताज(मुकुट ) तो अब राम के माथे पर ही सुशोभित होगा | यही स्वप्न तो दिखाना उद्देश्य है ..क्या ….?

…………………ॐ शांति शांति शांति



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
November 6, 2017

हरिश्चंद्रजी, आप हरिश्चंद्र ही अच्छे लगते हैं, पापी उप नाम की जंत्री पता नहीं कब और क्यों आपने धारण करली ! आप जैसे हँसते हंसाते वयंकारों की तो किसी जंत्री कंठी माला की जरूरत ही नहीं है ! लेख व्यंग पर जामा असली पहनाया है ! जय भूत नाथ, प्रेतनाथ !

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    November 7, 2017

    रावत जी आप तो स्वयं ही हरि हैं साथ मैं जय भूतनाथ ,प्रेत नाथ …….तो अवष्य ही जानते होंगे कि कलियुग मैं हरिश्रचंद्र को पापी दिखना जीने के लिए जरूरी हो जाता है ताकि ओम शांति शांति बनी रहे आभार

Shobha के द्वारा
November 6, 2017

श्री हरीश जी नाम व्यंग का लेकिन सच्चाई आपके व्यंग बहुत समय बाद पढने को मिले रही बात कमल हसन की राजनीति में आना चाहते है स्क्रिप्ट पढ़ नहीं लिख रहे हैं कितना भी हिन्दुओं की आलोचना कर लें हिन्दुओं ने कभी आतंकवाद का साथ नहीं दिया जहाँ भी प्रवासी हैं उस देश को अपना समझा

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    November 6, 2017

    कमल हसन जी क्या\ जाने…. की भ्रष्टाचार रहित स्वच्छ भारत की परिकल्पना ही सनातन धर्म का आधार है ,जब तक मनुष्य स्वच्छ नहीं होगा वह सनातनी नहीं हो सकता | देवी पूजन ,दसहरा दीपावली से गंगा स्नान सभी पर विचार करें तो आतंकवाद मुक्ति मार्ग ही दिखेगा न की आतंकवाद ………..आतंकवादी रावण ,महिसासुर ,चाण्डा मुंड ,रक्तबीज जैसे राक्षशों के नाश के बाद ही यह सब खुशियां बनाई जाती हैं | …………आदरणीय शोभा जी आभार ओम शांति शांति 


topic of the week



latest from jagran