PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

231 Posts

953 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 1334094

तीन साल ,संस्कारी\चाणक्य फैक्टरी स्थापित

Posted On 17 Jun, 2017 हास्य व्यंग में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

व्यंग्य मात्र ..राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ ने संस्कारी बच्चों को पैदा करने की टेक्निक खोज ली है | जिसके लिए उसने बाकायदा संस्थान स्थापित कर लिए हैं | जिसमें गर्भाधान मुहूर्त से लेकर गर्भवती महिलाओं के प्रसव तक संस्कारी उत्पादन का डाटा तैयार कार लिया है | ……………………………………………………………………………………………अब पैदा होने वाले प्रोडक्ट यानि बच्चे केवल मोदी मोदी कहते ही पैदा होंगे | पाहिले RSSS को संस्कारवान बनाने मैं ही वर्षों का समय शाखाओं मैं लग जाता था और उसके बाद मोदी मोदी कहलवाने मैं और समय ख़राब होता था | अब बच्चे मोदी मोदी कहते ही पैदा होंगे या उनको भक्तिभाव जगाने मैं कुछ ही समय लगेगा और वे मोदी मोदी चिल्लाने लगेंगे | …………………………………………………………………………………………....राजकीय तौर पर भी आयुष मंत्रालय ने ऐसे संस्कारी बच्चों के उत्पादन के लिए दिशा निर्देश वाली पुस्तिका जारी कर दी है | जिसमें गर्भवती महिला के लिए सेक्स और खानपान के दिशा निर्देश दिए गए हैं | गर्भवती महिला को गर्भवती होने के बाद पहिले के तीन महीने ,और बाद के तीन महीने सेक्स से परहेज रखना हितकर बताया है | खान पान सात्विक वेज को ही उत्तम माना है | नॉन वेज खानपान संस्कारी बच्चों को उत्त्पन्न नहीं करते हैं | अच्छे धार्मिक क्रियाकलापों और शांत वातावरण को उत्तम माना है | ……………………………………………………………………………………………खास तौर से भक्ति भाव के वातावरण मैं ,जैसे राम भक्ति ,कृष्ण भक्ति और मुख्यतः मोदी भक्ति का वातावरण ही संस्कारी भक्तों का उत्पादन कर सकेगा | मीट मांस भक्षण और पापाचार से ,कुटिलता से चाणक्य ही पैदा होंगे |…………………………………………………………………………………………इन दिशा निर्देशों को पालन करने वाली गर्भवती महिला के संतान संस्कारी पैदा होगी | अब संस्कारी शब्द की क्या व्याख्या होगी …? क्या ब्राह्मणत्व प्राप्त बालक होगा …? या क्षत्रियता लिए मारकाट वाला होगा …? या कुशल वैश्य व्यवसायी गुणों वाला होगा ….? किन्तु कोई भी शूद्रत्व प्राप्त बालक की कल्पना भी नहीं करेगा क्या …? ………………………………………………………………………………………….माना यह भी जाता है की गर्भावस्था मैं जैसे विचार गर्भवती महिला के होते हैं वैसा ही गुणों वाला बालक पैदा होता है | ………………………………………………………………………………………………यह सब दिशा निर्देश तो साधारण जनता के लिए स्थापित किये गए हैं |……………………………………………………………………………………………..संस्कारी का मतलब ब्राह्मणत्व प्राप्त हरिश्चंद्र जिनको नैतिकता के सपनों मैं लपेटकर बेब कुफ बनाया जा सके | जिनको हर कोई चाणक्य आसानी से ठग सके, किन्तु ऐसे हरिश्चंद्र का उत्पादन कौन करना चाहेगा ….?…………………………………………………….|………………………………………… जो कुछ बन कर दिखा सके जिसमें बल हो बुद्धि हो ,चातुर्य हो ,देखने मैं संस्कारी लगें किन्तु अंदर से कुटिल चाणक्य हों ऐसे बालक की मांग भरपूर रहेगी | …………………………………………………………………………………………….साधारण जनता तो पहिले ही संस्कारी होती है किन्तु भविष्य मैं अपनी अगली पीड़ी के लिए जीवन सुगम करने के लिए चाणक्यों का उत्पादन साधारण जनता न कर पाए इसके लिए चाणक्य फैक्ट्रियों पर सख्त पहरा बैठाया जायेगा | या इस विद्या को अति गोपनीय रखा जायेगा | …………………………………………..साधारण जनता के लिए केवल संस्कारी फैक्ट्रियों के दरबाजे सदैव निशुल्क खुले रहेंगे | |…………………………………………………. ……………………………………..किन्तु उच्च श्रेणी मैं स्थापित हो चुके भारतीय जनता पार्टी के चाणक्यों को चाणक्यों के उत्पादन हेतु ही इस टेक्निक का प्रयोग करना होगा | ……………………………………………………………………………………………साधारण जनता को संस्कारी भोला भाला सज्जन ही होना चाहिए जिसको लच्छों वाली बातों मैं उलझाकर सुगमता से ठग लिया जाये | भोले भाले संस्कारियों को नींद अच्छी आती है और वे नींद मैं अच्छे दिनों के स्वप्न देखते उठना ही नहीं चाहते हैं |…………………………………………………………………………………………. .साधारण जनता मैं चाणक्यीय गुणों का होना भारतीय जनता पार्टी के भविष्य के लिए घातक हो सकता है | अतः चाणक्य का उत्पादन कैसे किया जायेगा,कहाँ किया जायेगा , यह गोपनीय ही रहेगा | ………………………………………………………………………………………………यह भी माना जा सकता है की चाणक्य तो चाणक्य से ही उत्पादित होते रहेंगे | हेरिडिटी यानि अनुवांशिकता भी होती रहेगी | तभी तो चाणक्यीय गुण पा चुके शासकों की वंश परंपरा ही पीडियों तक सत्ता सुख भोगती रहती है | पुराने युग मैं सूर्य वंश ,चंद्र वंश ,मुग़ल वंश ,खिलजी वंश ,नन्द वंश ,मौर्य वंश.गुप्त वंश आदि आदि स्थापित रहे | ……………………………………………………………………………………………..अब चाणक्यीय कला भारतीय जनता पार्टी के पास आ चुकी है अतः वह इस कला को गोपनीय ही रखेगी | ……………………………………………………………………………………………...किसी ज़माने मैं इस चाणक्यीय कला पर कांग्रेस का कब्ज़ा था | किन्तु भोग विलास मैं उसकी नयी पीडियां उसको भूल चुकी हैं | किन्तु अब कांग्रेस के राहुल गाँधी ने इसका महत्त्व समझा है अतः वे गीता और उपनिषदों के अध्ययन से खोज मैं लग गए हैं | बड़ी लम्बी तपस्या करनी पड़ती है तब कहीं किसी विरले को मिल पाती है यह चाणक्यीय कला ….|……………………………………………………………………………………….कांग्रेसके जवाहर लाल जी को को पूर्व काल मैं अंग्रेजों ने १९४७ मैं इस चाणक्यीय कला को सौंपा था | जिसके बल पर ही कांग्रेस की सत्ता को कोई नहीं हिला पाया था | लेकिन उसके पास संस्कारी बालक पैदा करने की फैक्ट्री नहीं थी जिसकी बजह से चाणक्यों का उत्पादन स्वतः ही अनुवांशिकता के सिद्धांत से होता चला गया और अब आज ऐसा समय है की हर कोई चाणक्यीय गुणों से भरपूर हो गया है |………………………………………………………………………………………………इसी लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को एक ऐसी चाणक्य फैक्टरी की जरुरत महसूस की गयी जहाँ……..” सुपर चाणक्य”…. पैदा किये जा सकें | और आम जनता के लिए संस्कारी बालकों का ज्ञान लिए संस्कारी फैक्टरी | ………………………………………………………………………………………………..वर्षों तक इस चाणक्य विद्या की खोज मैं रत मोदी जी ,अमित शाह जी और बाबा राम देव जी ने इस कला पर विजय पा ली है |…………………………………………………………………………………………….अब यह सुनिश्चित हो चूका है की इन फैक्ट्रियों के संस्कारी उत्पादन से लाभान्वित होते मोदी जी का कार्य काल २०२४ तक निष्कंटक चलता रहेगा | उसके बाद भी चाणक्य फैक्ट्रियों से निकले भारतीय जनता पार्टी के चाणक्य ही इन संस्कारी फैक्ट्रियों के लोगों पर राज पाठ चलाते रहेंगे | …………………………………………………………………………………………...संस्कार वान लोगों का सिर्फ एक ही धर्म होगा की वे मोदी भक्ति मैं डूबे रहें | जैसे भगवन श्री कृष्ण भक्तों पर शासन करना सुगम हो जाता है उसी प्रकार मोदी भक्तों पर शासन करना इन चाणक्यों की वंश परंपरा बन जाएगी | यह संस्कारी लोग कभी भी चाणक्य बन ही नहीं सकेंगे | जैसे गुलाम युग मैं गुलाम कभी भी उभर नहीं पाए थे | सदियों बीत जाती हैं इन संस्कारी लोगों को चाणक्य बनने मैं | ……………………………………………………………………………………………..कांग्रेस सहित सभी विपक्षी पार्टियों मैं इस संस्कारी फैक्टरी के स्थापित हो जाने से है है कार हो रहा है | भयभीत विपक्षियों को कोई भी रास्ता नहीं मिल रहा है | आशा की जा रही है की कांग्रेस के इन्द्र राहुल गाँधी जी गीता उपनिषदों के अध्ययन से कोई निचोड़ निकाल सकें | अन्यथा विपक्षियों को भी मुसलमानों की तरह मोदी स्तुति करते सुबह शाम आरती मैं शामिल होना पड़ेगा | …………………………………………………………………...ॐ शांति शांति शांति



Tags:      

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
June 17, 2017

आशा की जा रही है की कांग्रेस के इन्द्र राहुल गाँधी जी गीता उपनिषदों के अध्ययन से कोई निचोड़ निकाल सकें | अन्यथा विपक्षियों को भी मुसलमानों की तरह मोदी स्तुति करते सुबह शाम आरती मैं शामिल होना पड़ेगा |

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
June 17, 2017

.कांग्रेस सहित सभी विपक्षी पार्टियों मैं इस संस्कारी फैक्टरी के स्थापित हो जाने से है है कार हो रहा है | भयभीत विपक्षियों को कोई भी रास्ता नहीं मिल रहा है |


topic of the week



latest from jagran