PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

231 Posts

953 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 1244722

अन्ना जी,अर्जुन(केजरीवाल)हूँ,एकलब्य नहीं

Posted On: 11 Sep, 2016 Others,हास्य व्यंग,Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

व्यंग …………………………………………गुरुदेव द्रोणाचार्य (अन्ना जी) आप मेरी प्रेरणा हो ,मैं आपका प्रिय शिष्य अर्जुन हूँ मुझे पहिचानिये | मैं एकलब्य नहीं , जो आप मुझे हतोसाहित करने के लिए मेरा अंगूठा मांग रहे हो | ………………………………………………(अन्ना हजारे कह रहे हैं कि अब उन्हें अरविंद केजरीवाल से कोई उम्मीद नहीं रही। क्यों भला? इसलिए क्योंकि उनके 6 मंत्रियों में से 3 किसी न किसी तरह के विवाद में फंस चुके हैं। तो क्या इन मंत्रियों के विवाद में फंसने में केजरीवाल की भी कोई भूमिका रही है? )…………………………………………………………………………………………मुझे धुरंधर बनाने के लिए आपने ही मुझे समस्त विद्याएं प्रदान की | लक्ष्य चिड़िया की आंख पर ही एकाग्रता आपका ही ज्ञान था | ……………………………………………………………………………………....आपका लक्ष्य भ्रस्टाचार का नाश करना और लोकपाल की स्थापना करना ही है | जब आपके अथक अनसन से भी भ्रस्टाचार का नाश नहीं हो प् रहा था और लोकपाल पर सफलता नहीं मिल पा रही थी तब मुझे राजनीतिक महाभारत मैं आपके(किशन रूप ) ही गीता ज्ञान से युद्ध करने की बुद्धि मिली | .गीता मैं आपने ही हर अध्याय मैं यही कहा है अर्जुन पाप के नाश और धर्म की स्थापना के लिए युद्ध कर | …………………………………………………………………………………………मैं भ्रष्टाचार रूपी पाप के नाश करने ,लोकपाल की स्थापना रूपी धर्म की स्थापना करने के लिए ही रण भूमि मैं कूद गया हूँ | …..मैं अकेला अपने लक्ष्य पर कायम हूँ | मेरे हाथ मैं झाड़ू है मैं सब प्रकार की गंदगियों को साफ करते रहूँगा | ………..गंदगी तो सत्य है जो मन मैं पैदा होती है ,शरीर मैं पैदा होती रहती है घर बाहर पैदा होती रहती है ,समाज मैं ,देश मैं विदेश मैं कहीं भी पैदा होती रहती है | उसको स्वच्छ करने के लिए ही झाड़ू को एक चुनाव चिन्ह की तरह सदैव साथ रखा है | …………………………………………………………………………………………..मोदी जी का स्वच्छता अभियान सफल हो या न हो किन्तु मेरा स्वच्छता अभियान अनवरत चलता रहेगा | यह मेरा बचन है …प्राण जाये पर बचन न जाये …|….मेरी झाड़ू अंदर और बाहर दोनों तरफ से स्वच्छ करती रहेगी | ………………………………………………………………………………………………गुरुदेव जहाँ छली राजनीतिक पार्टियां अपने अंदर पापियों को समाहित करके सत्ता मैं बैठी हैं | उनके पापी विधायक ,सांसद आरोपी होने या आरोप सिद्ध हो जाने पर भी शोभायमान हैं | किन्तु मेरी झाड़ू ने अपने आरोपियों को तुरंत साफ कर दिया | मुझे गंदगी दिखे तो …मेरी आत्मा कचोटती है और झाड़ू तुरंत साफ कर देती है | …………………………………………………………………………..मुझे … और मेरी पार्टी को राजनीती मैं स्थापित हुए केवल ढेड़ बसंत ही हुए हैं | संस्कार बनाने मैं समय लगता है अतः ढेड़ वर्ष पहिले पैदा व्यक्ति कोसंस्कारित होने मैं कम से कम 18 वर्ष तो लगेंगे ही | मुझे जो व्यक्ति संस्कार विहीन मिले हैं वे सब पूर्व स्थापित पार्टियों के ही हैं | उन्हीं संस्कारों मैं पले बड़े लोग ही मुझे मिले हैं | जिनका मन बदलना सहज क़ाम नहीं है | किन्तु प्रयास बराबर कर रहा हूँ | ………………………………………………………………………………………..जैसे हिन्दू समाज मैं वर्ण व्यवस्था मैं ब्राह्मण को सदचरित्र होने का तमगा मिल जाता है | उसकी वेश भूषा और आचरण सदाचारी ही होना चाहिए | वर्ना उसे यही ताना सुनना पड़ जाता है कि ब्राह्मण धर्म और ऐसे कर्म …..| उसे आचार ,विचार ,पहिनावे से सदाचारी ही दिखना चाहिए | …………………………………………………………….वैसे ही अरविन्द्र केजरीवाल और उनकी पार्टी आम आदमी पार्टी हो गयी है | वह कितना ही सदाचारी अपने धर्म पर अडिग क्यों न रहे विरोधी राजनीतिक पार्टियों और मीडिया के कटाक्षों से भेदी जाती रही है | जरा जरा सी बात भी एक ब्राह्मण से केजरीवाल के आचार विचार पर लांछन बन जाती है | जो खुद तो अपने अंदर ब्राह्मणत्व पैदा नहीं कर सकते ,किन्तु ब्राह्मणत्व की ओर प्रयास करने वाले पर प्रहार कर हतोत्साहित कर देते हैं | …………………………………………………………...चला मुरारी हीरो बनने ………………………………………………………………………..एक पालतू तोता जब किसी तरह बंधन मुक्त हो जाता है और अपने बंधू बांधवों मैं जाता है तो उसका बोलना सदाचारी ज्ञान सुनकर उन्हें क्रोध आता है | तानों और चोंचों का प्रहार कर उसके अपने ही उसे मार डालते हैं |………………………………………………………………………..अतः गुरु देव आप द्रोणाचार्य हो आप किशन हो मेरी प्रेरणा हो आप ही के यज्ञ (भरष्टाचार का नाश लोकपाल की स्थापना ) को आगे बड़ा रहा हूँ | मेरे विचार आप ही की उपज है | कृपया उसे हतोत्साहित न करिये | मुझे गलतियों के सुधार की शक्ति प्रदान कीजिये | …मेरे नाश से आप ही के यज्ञ का नाश होगा | यज्ञ सफल हो इसकी कामना के लिए मुझे प्रोत्साहित कीजिये | तभी मैं इस लोक मैं पाप भ्रष्टाचार का नाश करके धर्म की स्थापना कर सकूँगा | …………………………………………………………....विना किशन के आशीर्वाद के अर्जुन कभी भी कोई युद्ध नहीं जीत सकता | प्रभु नाम आपका होगा कर्म मेरा | मैं तो सिर्फ कर्म कर सकता हूँ फल तो आप पर ही निर्भर होगा |………………………………………………………..याद कीजिये किशन ने अर्जुन को जितने के लिए क्या नहीं किया …..|…..……………………………..ॐ शांति शांति शांति



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

16 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
September 27, 2016

आदरणीय हरीश चन्द्र शर्मा जी ! ब्लॉग को दुबारा पढ़ने का मौका मिला ! राजनीती में बड़े जोश से जाते तो सब लोग भ्रष्टाचार का नाश करने के लिए हैं, किन्तु कुछ ही समय बाद भ्रष्टाचारियों का साथ देने लगते हैं ! बड़े बड़े नेता एक दूसरे के खलाफ केवल मुंहजुबानी कार्यवाही करते हैं ! अन्दर से सब एक दूसरे से मिले रहते हैं !

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 27, 2016

    आदरणीय सदगुरु जी ,य़ाद कीजिये …यदा यदा ही धर्मष्य ….या भ्रष्टाचार मैं डूब जाइये ।मन की शांति के दो मार्ग हैं । एक क्षणिक शांति मार्ग ,दूसरा परलोक तक की शांति मार्ग ।आभार ओम शांति

Shobha के द्वारा
September 18, 2016

श्री हरीश जी बहुत अच्छा व्यंग कम सार गर्भित लेख आप पार्टी को आयना दिखाने का काम किया

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    शोभा जी ओम शांति कारक ,आभार 

rameshagarwal के द्वारा
September 17, 2016

जय श्री राम आदरणीय हरिश्चंद्र  जी  आपने  तो व्यंग्य  की  भाषा  में  केजरीवाल  की असलियत  लिख दी.ये  दिल्ली  वालो को बेफकूफ और मुफ्त पानी बिजली  और स्वच्छ प्रशासन के नाम पर  सत्ता  में  आया  तबसे  प्रधान मंत्री के सपने देखने में दिल्ली का कबाड़ा कर दिया इसने देश की राजनीती  को टकराव  और  गंदगी से भर दी हर एक को गली देना और कोइ काम न करना हर बात में सब्जघ अदालतों से मात खता रहा अब मीडिया को गली दे रहा.आपके सुन्दर लेख के लिए बधाई.आप  बहित ही पुण्यात्मा है पापी क्यों जोड़ दिया.

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    जय श्री राम ,यार हमारी बात सुनो ऐसा एक इंसान सुनो जिसने पाप ना किया हो जो पापी ना हो । ओम शांति शांति 

rameshagarwal के द्वारा
September 17, 2016

जय  श्री  राम

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    ओम शांति शांति 

jlsingh के द्वारा
September 17, 2016

आदरणीय हरिश्चन्द्र साहब, सादर अभिवादन! आप तो व्यंग्य को इस प्रकार संजो देते हैं कि सांप भी मर जाय और लाठी भी न टूटे. वैसे केजरीवाल एंड पार्टी को समय देना चाहिए. समय लगेगा सफाई करते करते …और राजनीति तो है ही काजल की कोठरी… बाकी आपने सबकुछ कह दिया है. कोई आदमी तो होना चाहिए जो धरा के विपरीत दिशा में तैरने का प्रयास करे. सादर!

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    आदरणीय जवाहर जी ,उचित ही कहा आपने एक लक्ष पर भयंकर कठिनाइयों को झेलते सफलता पाते केजरीवाल ही कहलाये । ओम शांति शांति 

Jitendra Mathur के द्वारा
September 17, 2016

आपका व्यंग्य- लेख सदा की ही भांति बहुत ही प्रभावशाली है आदरणीय हरिश्चंद्र जी । राजनीति तो काजल की कोठरी है जिसमें जाकर सयाना-से-सयाना भी बेदाग़ नहीं रह सकता । ऐसे में अरविंद केजरीवाल से अपवाद बने रहने की अपेक्षा व्यर्थ ही थी । जहाँ तक अन्ना हज़ारे का प्रश्न है, वे तो स्वयं ही अस्थिर चित्त वाले एवं प्रसिध्धी के बुभुक्ष हैं । किसी और पर आक्षेप करने से पूर्व इन तथाकथित गांधीवादी महानुभाव को आत्मालोचन करने चाहिए ।

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    आदरणीय जितेन्द्र जी ।,सही कहा आपने य़ुधिष्टर को धर्म राज और हरिश्रचन्द्रको सत्य वादी होना पडा। तो केजरीवाल को भी भ्रष्टाचार विहीन होना ही पडेगा । तभी वे ओम शांति शांति पा सकेगे ।

rameshagarwal के द्वारा
September 17, 2016

जय श्री राम आदरणीय हरीश चन्द्र जी आपका लेख पढ़ कर मजा आ गया क्या खूबी से आप और केजरीवाल का सत्यौजगर.हमें आपके नाम के साथ पापी अच्छा नहीं लगता आप तो पुण्यात्मा है केजरीवाल ने समझा की झूठे वैदे कर के वोह प्रधान मंत्री बन सकता इसी महत्वाकांक्षी इच्छा ने उसे और दल को बर्बाद कर दिया हमें तो वेदेशी एजेंट (फोर्ड फाउंडेशन) का लगता देश्वशी तो मुफ्त के चक्कर में लादेन ऐसे आतंकवादी भी को वोट दे सकते है उम्मीद है दिल्ली वलो की तरह पंजाब गोवा या अन्य प्रदेश के लोग अब इसको वोट देकर बेफकूफी नहीं करेंगे.सुन्दर लेख के लिए आभार.

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    September 25, 2016

    अग्रवाल साहिब आभार ,राजनीति की कीचड  मै गये केजरीवाल पर दाग तो  लगना स्वाभाविक है किंतु लक्षय भ्रष्टाचार नाश है ।बाकी कैसे होगी ओम शांति शांति  

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
September 16, 2016

गुरु देव आप द्रोणाचार्य हो आप किशन हो मेरी प्रेरणा हो आप ही के यज्ञ (भरष्टाचार का नाश लोकपाल की स्थापना ) को आगे बड़ा रहा हूँ | मेरे विचार आप ही की उपज है | कृपया उसे हतोत्साहित न करिये | मुझे गलतियों के सुधार की शक्ति प्रदान कीजिये | …मेरे नाश से आप ही के यज्ञ का नाश होगा | यज्ञ सफल हो इसकी कामना के लिए मुझे प्रोत्साहित कीजिये | तभी मैं इस लोक मैं पाप भ्रष्टाचार का नाश करके धर्म की स्थापना कर सकूँगा |

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
September 16, 2016

अरविन्द्र केजरीवाल और उनकी पार्टी आम आदमी पार्टी हो गयी है | वह कितना ही सदाचारी अपने धर्म पर अडिग क्यों न रहे विरोधी राजनीतिक पार्टियों और मीडिया के कटाक्षों से भेदी जाती रही है | जरा जरा सी बात भी एक ब्राह्मण से केजरीवाल के आचार विचार पर लांछन बन जाती है | जो खुद तो अपने अंदर ब्राह्मणत्व पैदा नहीं कर सकते ,किन्तु ब्राह्मणत्व की ओर प्रयास करने वाले पर प्रहार कर हतोत्साहित कर देते हैं | ……………………………………………………………चला मुरारी हीरो बनने


topic of the week



latest from jagran