PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

229 Posts

944 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 1146141

"कन्हैया"सभी हैं भीड़ मैं तुम भी निकल सको तो चलो(1)

Posted On: 16 Mar, 2016 Others,हास्य व्यंग,Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

  • सभी हैं भीड़ मैं तुम भी निकल सको तो चलो, सफर मैं धूप तो होगी जो चल सको तो चलो ||.………….किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं, तुमअपने आप को खुद ही बदल सको तो चलो . यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता , मुझे गिरा कर अगर तुम संभल सको तो चलो |.यही है जिंदगी कुछ पल चन्द उम्मीदें , इन्हीं खिलोनों से तुम भी बहल सको तो चलो ||..……………………………………………….माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का जोरदार शायराना अंदाज राजयसभा के साथ साथ सभी अर्जुनो के लिए मार्ग दर्शन कर गया | लगता था भगवन श्रीकृष्ण गीता ज्ञान कर मार्ग दर्शन कर रहे हों | …..जैसा जैसा व्यवहार भद्र जन करते हैं उसी का अनुसरण साधारण जन करते हैं | ..किन परिस्थितियों मैं किन किन रास्तों से होते गुजरते जवाहर लाल नेहरू प्रधान मंत्री बने | जिन कड़ी धूप को झेलते .कठिन राहों को झेलते जनसंघ से गुजरते ,भारतीय जनता पार्टी के प्रधान मंत्री मोदी बने कोई सहज मार्ग नहीं थे | उन्हें झेल सको तो चलो |….अरविन्द्र केजरीवाल के टेचनोलॉजिकल मार्ग को अपना सको तो चलो | ………………………………………………..भारत में आज अनेक संकट छाये हुए हैं – भ्रष्टाचार, आतंकवाद, कट्टरवाद, धर्मांतरण, नैतिक अध : पतन, अशिक्षा, चरमरायी हुई स्वास्थ्य व्यवस्था, सफ़ाई की समस्या वगैरह – वगैरह | पर इन सभी से ज्यादा भयावह है – जन्मजात जातिवाद और लिंग भेद | क्योंकि यह दो मूलभूत समस्याएँ ही बाकी समस्याओं को पनपने में मदद करती हैं | यह दो प्रश्न ही हमारे भूत और वर्तमान की समस्त आपदाओं का मुख्य कारण हैं |  इन को मूल से ही नष्ट नहीं किया तो हमारा उज्जवल भविष्य सिर्फ़ एक सपना बनकर रह जाएगा क्योंकि एक समृद्ध और समर्थ समाज का अस्तित्व जाति प्रथा और लिंग भेद के साथ नहीं हो सकता |…………….………………. |हिन्दुत्व और वेदों को गालियां देने वाले कथित सुधारवादियों के लिए तो मनुस्मृति एक पसंदीदा साधन बन गया है| विधर्मी वायरस पीढ़ियों से हिन्दुओं के धर्मांतरण में इससे फ़ायदा उठाते आए हैं जो आज भी जारी है | ध्यान देने वाली बात यह है कि मनु की निंदा करने वाले इन लोगों ने मनुस्मृति को कभी गंभीरता से पढ़ा भी है कि नहीं |…………

    मनुस्मृति पर तीन मुख्य प्रहार : १. मनु ने जन्म के आधार पर जातिप्रथा का निर्माण किया | २. मनु ने शूद्रों के लिए कठोर दंड का विधान किया और ऊँची जाति खासकर ब्राह्मणों के लिए विशेष प्रावधान रखे | ३. मनु नारी का विरोधी था और उनका तिरस्कार करता था | उसने स्त्रियों के लिए पुरुषों से कम अधिकार का विधान किया |

    वर्णों में परिवर्तन :

    मनुस्मृति १०.६५: ब्राह्मण शूद्र बन सकता और शूद्र ब्राह्मण हो सकता है | इसी प्रकार क्षत्रिय और वैश्य भी अपने वर्ण बदल सकते हैं | मनुस्मृति ९.३३५: शरीर और मन से शुद्ध- पवित्र रहने वाला, उत्कृष्ट लोगों के सानिध्य में रहने वाला, मधुरभाषी, अहंकार से रहित, अपने से उत्कृष्ट वर्ण वालों की सेवा करने वाला शूद्र भी उत्तम ब्रह्म जन्म और द्विज वर्ण को प्राप्त कर लेता है | मनुस्मृति के अनेक श्लोक कहते हैं कि उच्च वर्ण का व्यक्ति भी यदि श्रेष्ट कर्म नहीं करता, तो शूद्र (अशिक्षित) बन जाता है

    उदाहरण- २.१०३: जो मनुष्य नित्य प्रात: और सांय ईश्वर आराधना नहीं करता उसको शूद्र समझना चाहिए | २.१७२: जब तक व्यक्ति वेदों की शिक्षाओं में दीक्षित नहीं होता वह शूद्र के ही समान है | ४.२४५ : ब्राह्मण- वर्णस्थ व्यक्ति श्रेष्ट – अति श्रेष्ट व्यक्तियों का संग करते हुए और नीच- नीचतर  व्यक्तिओं का संग छोड़कर अधिक श्रेष्ट बनता जाता है | इसके विपरीत आचरण से पतित होकर वह शूद्र बन जाता है | अतः स्पष्ट है कि ब्राह्मण उत्तम कर्म करने वाले विद्वान व्यक्ति को कहते हैं और शूद्र का अर्थ अशिक्षित व्यक्ति है | इसका, किसी भी तरह जन्म से कोई सम्बन्ध नहीं है | २.१६८: जो ब्राह्मण,क्षत्रिय या वैश्य वेदों का अध्ययन और पालन छोड़कर अन्य विषयों में ही परिश्रम करता है, वह शूद्र बन जाता है | और उसकी आने वाली पीढ़ियों को भी वेदों के ज्ञान से वंचित होना पड़ता है | अतः मनुस्मृति के अनुसार तो आज भारत में कुछ अपवादों को छोड़कर बाकी सारे लोग जो भ्रष्टाचार, जातिवाद, स्वार्थ साधना, अन्धविश्वास, विवेकहीनता, लिंग-भेद, चापलूसी, अनैतिकता इत्यादि में लिप्त हैं – वे सभी शूद्र हैं | २ .१२६: भले ही कोई ब्राह्मण हो, लेकिन अगर वह अभिवादन का शिष्टता से उत्तर देना नहीं जानता तो वह शूद्र (अशिक्षित व्यक्ति) ही है |………………………………………………………………………….

    शूद्र भी पढ़ा सकते हैं :

    शूद्र भले ही अशिक्षित हों तब भी उनसे कौशल और उनका विशेष ज्ञान प्राप्त किया जाना चाहिए | २.२३८: अपने से न्यून व्यक्ति से भी विद्या को ग्रहण करना चाहिए और नीच कुल में जन्मी उत्तम स्त्री को भी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेना चाहिए| २.२४१ : आवश्यकता पड़ने पर अ-ब्राह्मण से भी विद्या प्राप्त की जा सकती है और शिष्यों को पढ़ाने के दायित्व का पालन वह गुरु जब तक निर्देश दिया गया हो तब तक करे |…………………………………….

    ब्राह्मणत्व  आधार कर्म :

    मनु की वर्ण व्यवस्था जन्म से ही कोई वर्ण नहीं मानती | मनुस्मृति के अनुसार माता- पिता को बच्चों के बाल्यकाल में ही उनकी रूचि और प्रवृत्ति को पहचान कर ब्राह्मण, क्षत्रिय या वैश्य वर्ण का ज्ञान और प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए भेज देना चाहिए | कई ब्राह्मण माता – पिता अपने बच्चों को ब्राह्मण ही बनाना चाहते हैं परंतु इस के लिए व्यक्ति में ब्रह्मणोचित गुण, कर्म,स्वभाव का होना अति आवश्यक है| ब्राह्मण वर्ण में जन्म लेने मात्र से या ब्राह्मणत्व का प्रशिक्षण किसी गुरुकुल में प्राप्त कर लेने से ही कोई ब्राह्मण नहीं बन जाता, जब तक कि उसकी योग्यता, ज्ञान और कर्म ब्रह्मणोचित न हों | २.१५७ : जैसे लकड़ी से बना हाथी और चमड़े का बनाया हुआ हरिण सिर्फ़ नाम के लिए ही हाथी और हरिण कहे जाते हैं वैसे ही बिना पढ़ा ब्राह्मण मात्र नाम का ही ब्राह्मण होता है | २.२८: पढने-पढ़ाने से, चिंतन-मनन करने से, ब्रह्मचर्य, अनुशासन, सत्यभाषण आदि व्रतों का पालन करने से, परोपकार आदि सत्कर्म करने से, वेद, विज्ञान आदि पढने से, कर्तव्य का पालन करने से, दान करने से और आदर्शों के प्रति समर्पित रहने से मनुष्य का यह शरीर ब्राह्मण किया जाता है |…………..

    शिक्षा ही वास्तविक जन्म  :

    मनु के अनुसार मनुष्य का वास्तविक जन्म विद्या प्राप्ति के उपरांत ही होता है | जन्मतः प्रत्येक मनुष्य शूद्र या अशिक्षित है | ज्ञान और संस्कारों से स्वयं को परिष्कृत कर योग्यता हासिल कर लेने पर ही उसका दूसरा जन्म होता है और वह द्विज कहलाता है | शिक्षा प्राप्ति में असमर्थ रहने वाले शूद्र ही रह जाते हैं | यह पूर्णत: गुणवत्ता पर आधारित व्यवस्था है, इसका शारीरिक जन्म या अनुवांशिकता से कोई लेना-देना नहीं है| २.१४८ : वेदों में पारंगत आचार्य द्वारा शिष्य को गायत्री मंत्र की दीक्षा देने के उपरांत ही उसका वास्तविक मनुष्य जन्म होता है | यह जन्म मृत्यु और विनाश से रहित होता है |ज्ञानरुपी जन्म में दीक्षित होकर मनुष्य मुक्ति को प्राप्त कर लेता है| यही मनुष्य का वास्तविक उद्देश्य है| सुशिक्षा के बिना मनुष्य ‘ मनुष्य’ नहीं बनता| इसलिए ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य होने की बात तो छोडो जब तक मनुष्य अच्छी तरह शिक्षित नहीं होगा तब तक उसे मनुष्य भी नहीं माना जाएगा | २.१४६ : जन्म देने वाले पिता से ज्ञान देने वाला आचार्य रूप पिता ही अधिक बड़ा और माननीय है, आचार्य द्वारा प्रदान किया गया ज्ञान मुक्ति तक साथ देता हैं | पिताद्वारा प्राप्त शरीर तो इस जन्म के साथ ही नष्ट हो जाता है| २.१४७ :  माता- पिता से उत्पन्न संतति का माता के गर्भ से प्राप्त जन्म साधारण जन्म है| वास्तविक जन्म तो शिक्षा पूर्ण कर लेने के उपरांत ही होता है| अत: अपनी श्रेष्टता साबित करने के लिए कुल का नाम आगे धरना मनु के अनुसार अत्यंत मूर्खतापूर्ण कृत्य है | अपने कुल का नाम आगे रखने की बजाए व्यक्ति यह दिखा दे कि वह कितना शिक्षित है तो बेहतर होगा | १०.४: ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य, ये तीन वर्ण विद्याध्ययन से दूसरा जन्म प्राप्त करते हैं | विद्याध्ययन न कर पाने वाला शूद्र, चौथा वर्ण है | इन चार वर्णों के अतिरिक्त आर्यों में या श्रेष्ट मनुष्यों में पांचवा कोई वर्ण नहीं है | इस का मतलब है कि अगर कोई अपनी शिक्षा पूर्ण नहीं कर पाया तो वह दुष्ट नहीं हो जाता |

    उस के कृत्य यदि भले हैं तो वह अच्छा इन्सान कहा जाएगा | और अगर वह शिक्षा भी पूरी कर ले तो वह भी द्विज गिना जाएगा | अत: शूद्र मात्र एक विशेषण है, किसी जाति विशेष का नाम नहीं |………………..

    ‘नीच’ कुल में जन्में का तिरस्कार नहीं :

    किसी व्यक्ति का जन्म यदि ऐसे कुल में हुआ हो, जो समाज में आर्थिक या अन्य दृष्टी से पनप न पाया हो तो उस व्यक्ति को केवल कुल के कारण पिछड़ना न पड़े और वह अपनी प्रगति से वंचित न रह जाए, इसके लिए भी महर्षि मनु ने नियम निर्धारित किए हैं | ४.१४१: अपंग, अशिक्षित, बड़ी आयु वाले, रूप और धन से रहित या निचले कुल वाले, इन को आदर और / या अधिकार से वंचित न करें | क्योंकि यह किसी व्यक्ति की परख के मापदण्ड नहीं हैं|………………..

    इतिहास में वर्ण परिवर्तन के उदाहरण :

    ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य और शूद्र वर्ण की सैद्धांतिक अवधारणा गुणों के आधार पर है, जन्म के आधार पर नहीं | यह बात सिर्फ़ कहने के लिए ही नहीं है, प्राचीन समय में इस का व्यवहार में चलन था | जब से इस गुणों पर आधारित वैज्ञानिक व्यवस्था को हमारे दिग्भ्रमित पुरखों ने मूर्खतापूर्ण जन्मना व्यवस्था में बदला है, तब से ही हम पर आफत आ पड़ी है जिस का सामना आज भी कर रहें हैं|………. वर्ण परिवर्तन के कुछ उदाहरण – (a) ऐतरेय ऋषि दास अथवा

    अपराधी के पुत्र थे | परन्तु उच्च कोटि के ब्राह्मण बने और उन्होंने ऐतरेय ब्राह्मण और ऐतरेय उपनिषद की रचना की | ऋग्वेद को समझने के लिए ऐतरेय ब्राह्मण अतिशय आवश्यक माना जाता है | (b) ऐलूष ऋषि दासी पुत्र थे | जुआरी और हीन चरित्र भी थे | परन्तु बाद में उन्होंने अध्ययन किया और ऋग्वेद पर अनुसन्धान करके अनेक अविष्कार किये |ऋषियों ने उन्हें आमंत्रित कर के आचार्य पद पर आसीन  किया | (ऐतरेय ब्राह्मण २.१९) (c) सत्यकाम जाबाल गणिका (वेश्या) के पुत्र थे परन्तु वे ब्राह्मणत्व को प्राप्त हुए | (d) राजा दक्ष के पुत्र पृषध शूद्र हो गए थे, प्रायश्चित स्वरुप तपस्या करके उन्होंने मोक्ष प्राप्त किया | (विष्णु पुराण ४.१.१४) अगर उत्तर रामायण की मिथ्या कथा के अनुसार शूद्रों के लिए तपस्या करना मना होता तो पृषध ये कैसे कर पाए? (e) राजा नेदिष्ट के पुत्र नाभाग वैश्य हुए | पुनः इनके कई पुत्रों ने क्षत्रिय वर्ण अपनाया | (विष्णु पुराण ४.१.१३) (f) धृष्ट नाभाग के पुत्र थे परन्तु ब्राह्मण हुए और उनके पुत्र ने क्षत्रिय वर्ण अपनाया | (विष्णु पुराण ४.२.२) (g) आगे उन्हींके वंश में पुनः कुछ ब्राह्मण हुए | (विष्णु पुराण ४.२.२) (h) भागवत के अनुसार राजपुत्र अग्निवेश्य ब्राह्मण हुए | (i) विष्णुपुराण और भागवत के अनुसार रथोतर क्षत्रिय से ब्राह्मण बने | (j) हारित क्षत्रियपुत्र से ब्राह्मण हुए | (विष्णु पुराण ४.३.५) (k) क्षत्रियकुल में जन्में शौनक ने ब्राह्मणत्व प्राप्त किया | (विष्णु पुराण ४.८.१) वायु, विष्णु और हरिवंश पुराण कहते हैं कि शौनक ऋषि के पुत्र कर्म भेद से ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र वर्ण के हुए| इसी प्रकार गृत्समद, गृत्समति और वीतहव्य के उदाहरण हैं | (l) मातंग चांडालपुत्र से ब्राह्मण बने | (m) ऋषि पुलस्त्य का पौत्र रावण अपने कर्मों से राक्षस बना | (n) राजा रघु का पुत्र प्रवृद्ध राक्षस हुआ | (o) त्रिशंकु राजा होते हुए भी कर्मों से चांडाल बन गए थे | (p) विश्वामित्र के पुत्रों ने शूद्र वर्ण अपनाया | विश्वामित्र स्वयं क्षत्रिय थे परन्तु बाद उन्होंने ब्राह्मणत्व को प्राप्त किया | (q)

    विदुर दासी पुत्र थे | तथापि वे ब्राह्मण हुए और उन्होंने हस्तिनापुर साम्राज्य का मंत्री पद सुशोभित किया | (r) वत्स शूद्र कुल में उत्पन्न होकर भी ऋषि बने (ऐतरेय ब्राह्मण २.१९) | (s) मनुस्मृति के प्रक्षिप्त श्लोकों से भी पता चलता है कि कुछ क्षत्रिय जातियां, शूद्र बन गईं | वर्ण परिवर्तन की साक्षी देने वाले यह श्लोक मनुस्मृति में बहुत बाद के काल में मिलाए गए हैं | इन परिवर्तित जातियों के नाम हैं – पौण्ड्रक, औड्र, द्रविड, कम्बोज, यवन, शक, पारद, पल्हव, चीन, किरात, दरद, खश | (t) महाभारत अनुसन्धान पर्व (३५.१७-१८) इसी सूची में कई अन्य नामों को भी शामिल करता है – मेकल, लाट, कान्वशिरा, शौण्डिक, दार्व, चौर, शबर, बर्बर| (u) आज भी ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और दलितों में समान गोत्र मिलते हैं | इस से पता चलता है कि यह सब एक ही पूर्वज, एक ही कुल की संतान हैं | लेकिन कालांतर में वर्ण व्यवस्था गड़बड़ा गई और यह लोग अनेक जातियों में बंट गए |……………………..वर्तमान समय मैं भी हजारों शूद्र ज्ञान पाकर ब्रह्मत्व पाकर सम्मानित हुए | बाल्मीकि ,सूरदास ,तुलसीदास ,कबीरदास ,रहीमदास ,मीराबाई ………………………………………………….

    शूद्रों  के प्रति आदर :

    मनु परम मानवीय थे| वे जानते थे कि सभी शूद्र जानबूझ कर शिक्षा की उपेक्षा नहीं कर सकते | जो किसी भी कारण से जीवन के प्रथम पर्व में ज्ञान और शिक्षा से वंचित रह गया हो, उसे जीवन भर इसकी सज़ा न भुगतनी पड़े इसलिए वे समाज में शूद्रों के लिए उचित सम्मान का विधान करते हैं | उन्होंने शूद्रों के प्रति कभी अपमान सूचक शब्दों का प्रयोग नहीं किया, बल्कि मनुस्मृति में कई स्थानों पर शूद्रों के लिए अत्यंत सम्मानजनक शब्द आए हैं |………मनु की दृष्टी में ज्ञान और शिक्षा के अभाव में शूद्र समाज का सबसे अबोध घटक है, जो परिस्थितिवश भटक सकता है | अत: वे समाज को उसके प्रति अधिक सहृदयता और सहानुभूति रखने को कहते हैं |………………………………………………………वेद ईश्वरीय ज्ञान है और सभी विद्याएँ उसी से निकली हैं | उन्हीं को आधार मानकर ऋषियों ने अन्य ग्रंथ बनाए|  वेदों का स्थान और प्रमाणिकता सबसे ऊपर है और उनके रक्षण से ही आगे भी जगत में नए सृजन संभव हैं | अत: अन्य सभी ग्रंथ स्मृति, ब्राह्मण, महाभारत, रामायण, गीता, उपनिषद, आयुर्वेद, नीतिशास्त्र, दर्शन इत्यादि को परखने की कसौटी वेद ही हैं | और जहां तक वे  वेदानुकूल हैं वहीं तक मान्य हैं |…...प्रत्येक मनुष्य में चारों वर्ण हैं – ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र | मनु ने ऐसा प्रयत्न किया है कि प्रत्येक मनुष्य में विद्यमान जो सबसे सशक्त वर्ण है – जैसे किसी में ब्राह्मणत्व ज्यादा है, किसी में क्षत्रियत्व, इत्यादि का विकास हो और यह विकास पूरे समाज के विकास में सहायक हो

    .”:.अंतःकरण की शुद्धी करना ,इन्द्रियों का दमन करना ,धर्मपालन के लिए कष्ट सहना ,बहार भीतर से शुद्ध रहना ,दूसरों के अपराधों को क्षमा करना ,मन इन्द्रिय और शरीर को सरल रखना ,वेद शास्त्र ,ईश्वर और परलोक आदि मैं श्रद्धा रखना ,वेद शास्त्रों का अध्यन अध्यापन करना ,और परमात्मा के तत्व का अनुभव करना …….ये सब ब्राह्मण के स्वाभाविक कर्म हैं “…..यह गीता मैं भगवन श्री कृष्ण ने कहा है ..|

ओम शांति शांति …….अगले अंक मैं क्रमशः



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
March 19, 2016

आपके इस सूचनादायी आलेख को पढ़कर न केवल मनुस्मृति के विषय में विषद ज्ञान प्राप्त हुआ वरन आपके बारे में भी मेरा यह ज्ञानवर्धन हुआ कि आप न केवल व्यंग्य-विधा के महारथी हैं, वरन गंभीर विषयों पर भी तथ्यों पर आधारित और व्याख्यापरक विवेचना कर सकते हैं । नमन करता हूँ आपकी लौह-लेखनी को ।

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    March 19, 2016

    जितेन्दर माथुर जी प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद । पत्थर तभी हीरा महसूस करता है जब कोइ पारखी मिल जाता है ।यह पारखी का ही कमाल होता है । नाकि पत्थर का । ओम शांति शांति

jlsingh के द्वारा
March 18, 2016

आदरणीय हर्षचन्द्र जी, आपका अध्ययन एवं शोध काबिले तारीफ है. आपके सम्मान में यही कहूँगा कि “छुद्र नदी भर चली इतराई, जस थोड़े धन खल बौराई.” विद्वान धीर गंभीर होते हैं और समय आने पर ही अपनी विद्वता का परिचय देते हैं. साथ ही एक बात और कहना चाहूँगा कि हमात्रे जितने भी धार्मिक ग्रन्थ हैं उनकी पूर्ण व्याख्यायुक्त उपलब्धता / और पढ़ने की अनिवार्यता भी जोर दिया जाना चाहिए. आज के नवयुवक अंग्रेजी में अमिश त्रिपाठी को पढ़ लेंगे पर क्लिष्ट भाषा में लिखी वेद, उपनिषद और गीता का कहाँ अध्ययन कर पाते हैं. श्री श्री ने भी बहुत कुछ दिखलाया पर ज्ञानवर्धन कितना करा पाये? और भी बहुत कुछ है जिसे सामाजिक, राजनीतिक और बौद्धिक स्तर पर प्रचार प्रसार की जरूरत है. दोसरा भाग जब पढूंगा तब प्रतिक्रिया दूंगा. कन्हैया कहाँ इन सब चीजों को पढ़ेगा. वह तो बहुत जल्दी राजनीती में प्रवेश करने को आतुर है. केजरीवाल और डी राजा इंतज़ार करते रह गए वह ट्रैफिक जाम में फंस गया. खैर आपने जो भी बातें बताई हैं मननीय है. सादर अभिनंदन!

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    March 18, 2016

    आदरणीय सिंह साहब आभार ज्योतिष मै ब्रहस्पति ग्रह को बहुम अच्रछा माना जाता है किंतु जब यही अति अच्रछा हो जाता है तो मारक हो जाता है । ज्ञान अल्प हो तो भी मारक होता है । हमारे धर्म ग्रंथ इतनी विविधताओं से भरे हैं कि ओम शांति भ्रमित हो जातती है । अतः अज्ञानी मुर्ख बन श्रद्धा भाव से भक्ति करते रहो तो ओम शांति महसूस होती है । फिर ज्ञान पाकर श्री श्री जैसे लोगों को विश्व सांसक्तिक समारोह से वंचित नहीं कर देगें। कैसे महान संतों की उत्पत्ती होगी ।

pkdubey के द्वारा
March 17, 2016

जय हो गुरुदेव की ,बहुत दिनों बाद आप का ज्ञान मिला ,पढ़कर धन्य हुआ |सादर साधुवाद |

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    March 18, 2016

    दुबे जी आभार ज्ञान के लिए जप करते रहना चाहिए । जैसे मोदी मोदी ….किंतु अध्याम ज्ञान तो तप से ही मिलता है जैसे आर एस एस ने तप किया तभी भाजपा सा अध्यात्म ज्ञान पाया । तपस्या से लौटा हूॅ । ओम शांति शांति कितनी होगी 

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    March 18, 2016

    दुबे जी आभार ज्ञान के लिए जप करते रहना चाहिए । जैसे मोदी मोदी ….किंतु अध्याम ज्ञान तो तप से ही मिलता है जैसे आर एस एस ने तप किया तभी भाजपा सा अध्यात्म ज्ञान पाया । तपस्या से लौटा हूॅ । ओम शांति शांति कितनी होगी

sadguruji के द्वारा
March 16, 2016

अति सुन्दर और अत्यन्त विचारणीय रचना ! आदरणीय हरिश्चन्द्र शर्मा जी मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिये ! विष्य से सम्बन्धित आपकी खोजबीन और आपके द्वारा भारतीय संस्कृति की रक्षा हेतु किये गये अथक परिश्रम को सलाम ! लेख का शीर्षक लेख से मैच नही करता है ! कन्हैया ने कोई क्रांति नही की है, सिर्फ अराजकता फैलाने की कोशिश की है ! सादर आभार !

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    March 18, 2016

    सद्गुरु जी आभार ,बाल कन्हैया से सभी आस लगाये बैठे हैं । कोइ भयभीत है । समय ही उनकीी लीलाओ का विवेचन करेगा । किसको कैसे ओम शांति शांति मिलती है


topic of the week



latest from jagran