PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

221 Posts

907 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 773029

भारत के रत्न '' लाल कृष्ण आडवाणी ''खाँसते रहो

Posted On: 27 Aug, 2014 हास्य व्यंग,Politics,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अटल बिहारी बाजपेयी जी जहाँ भारत रत्न के योग्य माने जा रहे हैं उनकी योग्यता यदि उन्हें इस योग्य मानती है तो उससे कहीं अधिक योग्य सशक्त कर्मठ और कुछ कर दिखने वाले ,जनसंघ और आरएसएस मैं समनजष्य बैठने वाले लाल कृष्ण आडवाणी जी ही थे | जनसंघ के रूप मैं जब अटल विहारी बाजपेयी जी जब भासन के आलावा वोट बैंक नहीं बन सके तो भारतीय जनता पार्टी को नया रूप देना आडवाणी जी का ही काम था | अटल विहारी बाजपेयी जी भारतीय जनता पार्टी के रूप मैं भी वर्षों भासन ही देते रहे और कुछ भी नहीं उपजा सके तो रथ यात्रायें करके जनता मैं पार्टी को सशक्त स्तम्भ दिया आडवाणी जी ने ….. | कांग्रेस से टूटे विखरे जान समुदाय को एक विकल्प पर सोचने का विचार दिया | राम जन्म भूमि ,बाबरी मस्जिद और फिर उत्तर प्रदेश फतह किस किस पर आडवाणी की कूटनीति सफल नहीं हुयी | जब केंद्र मैं अटल विहारी बाजपेयी जी की सरकार बनी तो भी आडवाणी जी की ही कूटनीतियां रही | बहुत मन मसोष कर उन्हें उप प्रधानमंत्री का पद सहेजना पड़ा | ……...अटल विहारी बाजपेयी जी अगर इतने कुशल प्रधानमंत्री रहे उनका नेतृत्व इतना अच्छा रहा ,तो क्यों नहीं दो लोक सभा चुनावों मैं भी सोनिया गांधी या राहुल गांधी से नौसिखिये को परास्त कर सके थे | ……………………………………………….……….वर्तमान मैं भी यदि जीत हुयी तो वह भी आडवाणी जी की कूटनीतियां ही रही | जब नितिन गडकरी जी को अपना भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष पद छोड़ना पड़ा था ,और नए अध्यक्ष की खोज हो रही थी तो लाल कृष्ण आडवाणी जी ने ही अपनी कूटनीतिक बुद्धि से राज नाथ को भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस के बीच समनजष्य बैठाते पदारूढ़ किया था | बस यही गलती आडवाणी जी से हुयी | फिर तब से अब तक आडवाणी जी भीष्म पितामह की तरह अपनी सहनशक्ति की परीक्षा देते आ रहे हैं | पार्टी के हित के लिए एक सहनशक्ति की पराकाष्टा आडवाणी जी ने निभायी | और भारतीय जनता पार्टी को एक दुनियां की सशक्त पार्टी के रूप मैं स्थापित कर दिया | आज जिस जीत का श्रेय कहीं आरएसएस को ,नरेंद्र मोदी को ,या अमित शाह को दिया जा रहा है वे सब लाल कृष्ण आडवाणी जी की ही उपज हैं | असली चाणक्य कभी अपनी तारीफ खुद कभी नहीं करता है | देश के लिए पार्टी के लिए एक सशक्त सरकार आडवाणी जी की ही देन है | कुशल राज नाथ सा पार्टी अध्यक्ष ,नरेंद्र मोदी सा वक्ता ,अमित शाह सा कूटनीतिज्ञ को आडवाणी का आशीर्वाद प्राप्त हुआ तभी वे अपने को स्थापित कर सके | आरएसएस के लिए भारतीय जनता पार्टी के लिए मार्ग बनाते अग्रसित करने वाले आडवाणी जी ही रहे | …………………………………………………………..आज अगर सच्चे अर्थों मैं अगर कोई भारत रत्न है तो वह लाल कृष्ण अड़वानी जी ही हैं | जिनके कारन आज भारत वर्ष दुनियां मैं गौरवान्वित हो रहा है | ……………………………………………भीष्म पितामह की तरह ,भारतीय जनता पार्टी को सत्तारूढ़ करवाने की प्रतिज्ञा को आडवाणी जी ने ही समय समय पर चरितार्थ किया | ………….किसी भी राजनीतिज्ञ की मौत उसकी निष्क्रिय अवधी ही होती है | क्या लाल कृष्ण आडवाणी जी ,मुरली मनोहर जोशी जी भी जसवंत सिंह की तरह एक कोने मैं खांसते भीष्म पितामह सी रह जाएगी | निष्क्रिय अपमानित भीष्म पितामह क्या तड़पते किसी बाथ रूम मैं फिसलते होंगे | ….या अपमान की पराकाष्टा मैं नारायण दत्त तिवारी और अर्जुन सिंह बनते नयी पार्टी का ध्रुवीकरण करेंगे ……? चाणक्य नीति कूटनीति की काट कूटनीति से ही होती है | क्या भारतीय जनता पार्टी का विभाजन होगा ….? क्या भारतीय जनता पार्टी इस विभाजन को झेल पाएगी ….? या आडवाणी जी राष्ट्रपति पद की लालसा मैं खांसते रहेंगे ….? या भारत रत्न का ख्वाब देखते अपाहिज से बने रहेंगे ….? …..आज लग रहा है की भीष्म पितामह अपने ही लोगों मैं कितना तड़पे होंगे | पितामह होना भी कितना शिव सा विष्पाणी होता है | आडवाणी जी की दयनीय स्तिथी पर भारतीय जनता पार्टी के ही नहीं साधारण लोग भी दुखी हो रहे हैं | ………………….……….किसी भावनात्मक विखराव से पाहिले ही यदि वास्तविक अर्थों मैं भारत रत्न को भारत रत्न घोषित कर दिया जाये तो पितामह की गरिमा रहते पार्टी भी सशक्त बनी रहेगी | देश भी एक भारत रत्न पाकर गौरव अनुभव करता रहेगा | ………………………………………..क्या मुरली मनोहर जोशी जी के मुरझाये नयन उनकी विद्वता को नगण्य कर देंगे…..? | मस्त नयन होना ही क़ाबलियत की पहिचान होगी…..? | या दहाड़ना ही पराक्रम होगा ……? ……………………………………….ओम शांति शांति शांति



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

atulgupta के द्वारा
August 29, 2014

अब क्या कहें पापी जी को जो कांग्रेसी मानसिकता का ही परिपोषण कर रहे हैं… हमें याद रखना चाहिये कि बदलना ही प्रकृति है… अडवानी जी निस्संदेह भाजपा के सबसे सफल नेता हैं जिन्होने पार्टी में नयी जान फूंकी और इस    मुकाम तक पहुंचाया । पर देश के बदलते परिदृश्य में जिस युवा जोश, आर्थिक सोच और कूटनीतिक चातुर्य की जरूरत है वह किसी ज्यादा युवा नेता में ही मिल सकती है।इसे आड्वानी जी का अनादर नहीं माना जाना चाहिये, बल्कि वक्त की जरूरत समझना चाहिये।अपने यहां वानप्रस्थ आश्रम का जो महत्व है, वह सिर्फ कितबों में लिखने के लिये नहीं है, उस पर अमल भी तो होना चाहिये।

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
August 28, 2014

इस बात से पूरी तरह से सहमत हूं कि आज जो भाजपा दिखाई दे रही है उस्के पीछे आडवानी जी की मेहनत है । लेकिन भारत रत्न से ज्यादा महत्वपूर्ण है उन्हें पार्टी मे सम्मान मिले जिसके वह हकदार हैं शायद यह सबसे बडा पुरस्कार होगा । जिस दल के लिए पूरी जिंदगी खपा दी उसमे अगर सम्मान नही मिला तो भारत रत्न भी बेकार है ।

Shobha के द्वारा
August 27, 2014

आज तक हरिश्चन्द्र जी सही तरह से भारत रत्न किसको दिया गया है यहाँ भी राजनीति आ गई बहुत सुंदर व्यंग पढ़ कर हंसती हूँ डॉ शोभा

sadguruji के द्वारा
August 27, 2014

आदरणीय हरिश्चंद्र जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! आपने ध्वजारोहण करके लगभग दो सप्ताह की छुट्टी मना ही ली ! आपने इस व्यंग्य लेख में सही कहा है कि आडवाणी जी ने भारतीय जनता पार्टी को एक दुनियां की सशक्त पार्टी के रूप मैं स्थापित कर दिया | उन्हें सम्मान मिलना ही चाहिए ! पचहत्तर साल के बाद सन्यास लेकर ओम शांति ओम का जप करना भाजपा में सबके लिए अनिवार्य कर देना चाहिए ! विचारणीय व्यंग्य ! बहुत बहुत बधाई !


topic of the week



latest from jagran