PAPI HARISHCHANDRA

SACH JO PAP HO JAYEY

216 Posts

904 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15051 postid : 773350

Happy Independence Dayलाल किले से दहाड़ दो हिंदुस्तान नहीं नव भारत होगा

Posted On: 12 Aug, 2014 हास्य व्यंग,Recipe,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मोदी जी १५ अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर दहाड़ दो कि यह हिंदुस्तान नहीं नव भारत होगा एक मौका फिर मिला है अन्यथा कलई खुल जाएगी | संघ प्रमुख मोहन भगवत का यह वक्तव्य की हिंदुस्तान मैं रहने वाले सभी हिन्दू हैं और इस पर गरमाई राजनीती क्या सब सोची समझी कूटनीतिक चाल तो नहीं है | हिंदुस्तान है ही नहीं तो हिन्दू कहाँ होंगे …? भारत को हिंदुस्तान सिद्ध करना पहिला कदम होगा | हिंदुस्तान मैं राम मंदिर होना चाहिए | हिंदुस्तान मैं , हिन्दू लॉ ,मुस्लिम लॉ मैं विभाजित कानून को एक हिन्दुस्तानी कानून बनाना अगला कदम होगा | जब हिंदुस्तान है तो हिन्दुस्तानी कानून ही होना चाहिए | जिसे हिंदुस्तान मैं रहना हो उसे हिन्दुस्तानी कानून मानना ही होगा | कश्मीर से धारा ३७० हटाना भी तो आवश्यक होगा | वेद प्रताप वैदिक का वैदिक शांति पाठ सा पाठ ही तो लगता है मोहन भगवत का भागवत सप्ताह …| अब बाजी भारतीय जनता पार्टी के पास है जिसका खिलाड़ी आरएसएस है ,जो करना है उसका उल्टा कर दो सीधा विपक्ष को करना ही पड़ेगा | यही पाहिले कांग्रेस करती आई थी | सत्तारूढ़ पार्टी की सोची समझी चाल होती है ,विपक्ष विखरा होने पर चिल्लाना शुरू कर देता है |…………………………………………………………………………..स्मरण कर लें जब मोदी जी ने सपथ ग्रहण की थी तभी उन्हें भविष्य के प्रति आगाह कर दिया था | शायद तब चेत गए होते तो भविष्य की विडम्बनाएं पैदा ही नहीं होती | …………………………………………………………अंग्रेजों का इंडिया सिर्फ काले लोगों का था जहाँ हिन्दू, मुसलमानो से पहिचान नहीं होती थी ,सिर्फ काले गोरे से पहिचान होती थी | जब अंग्रेज भारत छोड़ने पर मजबूर हुए तो हिन्दू मुस्लमान को बना गए | हिन्दुओं के लिए हिंदुस्तान दे दिया मुसलमानो के लिए पाकिस्तान | हिंदुस्तान जहाँ हिन्दू रहेंगे ,पाकिस्तान जहाँ मुस्लमान रहेंगे | अंग्रेज चले गए फिर इंडिया (काले ) क्यों स्वीकारा | क्या हिंदुस्तान मैं सिर्फ हिन्दू रहते हैं फिर हिंदुस्तान क्यों स्वीकारा | एक देश नाम तीन राजनीतिक लाभ के लिए ..| दुनियां के अंग्रेज इंडिया से गाली देते हैं जबकि मुस्लमान हिंदुस्तान से | क्यों नहीं ”भारत” को ही सर्वमान्य नाम घोषित किया जाता है जब एक हिन्दू कहा जाने वाला ,हिन्दू विचारधारा वाला व्यक्ति ,हिन्दू वोटों के समर्थन से प्रधानमंत्री बनने जा रहा है तो क्यों पाकिस्तान के पेट मैं दर्द हो रहा है | या तो हिंदुस्तान मत कहो ,यदि स्वीकारते हो तो हिन्दू विचारधारा को भी स्वीकारो | क्या हिंदुस्तान ,पाकिस्तान नाम सिर्फ राजनीती खेलने के लिए ही पैदा किये गए हैं |..सिर्फ नामों से दुर्भावनाएं पैदा करते रहो |क्यों हिंदुस्तान नाम जिन्दा रखा गया है जबकि धर्म निरपेक्ष राष्ट्र कहकर लोक मैं सिद्ध करते हो | अंग्रेजों के अनुसार हम सब काले हैं हमारी जाती धर्म इण्डिया है | यह भी अंग्रेजों की गाली है, फिर भी हमें स्वीकार होगी | क्यों की हम काले हैं| ”भारत ” से भी हिन्दूज्म का भाष नहीं होता | हम सब भारतीय हैं कहना या हम सब इंडियन हैं कितना आत्मीय लगता है | किन्तु जब हम या मुस्लिम देश हिन्दुस्तानी कहते हैं तो सिर्फ हिन्दू का ही बोध होता है | जो कि राजनीतिक लाभ के लिए ही इस्तेमाल होता है | ………………..हिंदुस्तान मैं हिन्दू विचारधारा वाला ,हिन्दू विचारधारा वाली पार्टी से हिन्दुओं का समर्थन पाकर प्रधान मंत्री बनने जा रहा है अब हिंदुस्तान का क्या होगा ,मुसलमानो का क्या होगा ,वे कैसे रहेंगे यही दुष्प्रचार पाकिस्तान अफगानिस्तान के कट्टर पंथी फैलाकर सम्पूर्ण मुस्लिम जगत मैं दहसत फैलाकर अपना अपना स्वार्थ सिद्ध करना आरभ कर चुके हैं | पाकिस्तान मैं भयंकर दुष्प्रचार किया जा रहा है असमंजस की स्तिथी हो रही है | अफगानिस्तान मैं दूतावास पर हमला कर दहसत फैलाई जा चुकी है | भारत मैं भावनाओं का दोहन समाचार चैनलों मैं आरम्भ हो चूका है | कहाँ ले जायेगा यह भयंकर द्वन्द | अभी तो प्रधानमंत्री की सपथ भी नहीं ग्रहण की गयी | श्री गणेश से ही द्वन्द का होना आगे क्या रूप लेगा …? ……………………………………………………………………………….. “.क्या प्रधानमंत्री की सपथ लेने वाले लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी जी को इस दुष्प्रचार से नहीं निकालना चाहिए | उस समय की वापसी की जाये जब देश आजाद हुआ और भ्रांतियों ने ही हिंदुस्तान ,पाकिस्तान की उपज की | देश या भारतीय जनता पार्टी तभी फलफूल सकता है जब हम सब भारतीय संविधान के अनुसार धर्म निरपेक्ष भाव से रहें | …..अतः भावी प्रधानमंत्री जी ने शपथ ग्रहण से पाहिले ही यह विश्वास जगा देना चाहिए कि ……………..मैं.. नरेन्द्र मोदी भारत के,इंडिया के धर्मनिरपेक्ष संविधान के अनुसार सपथ लेता हूँ …विश्वास करो यह ”हिंदुस्तान” नहीं ”नव भारत” होगा …..इंडिया होगा | अतः हमारे देश के नागरिकों को बहकाने फुसलाने का प्रयास करने की इच्छा भी न करना | हम सब भारतीय हैं ,इंडियन हैं यही हमारी पहिचान होगी | हम सब इंडियन ,भारतीय बन कर ही रहेंगे ..| …………………………………………...’”‘.हिंदुस्तान” शब्द को ही डिस्कशनरी से हटा देना उचित होगा क्यों कि भारत एक धर्म निपेक्ष देश है | इसको सिर्फ हिंदुस्तान ,पाकिस्तान युद्ध के लिए ही प्रयोग किया जाता है | या हिन्दू मुस्लमान का आभास कराने के लिए ……………………………………………………………………...ओम शांति शांति शांति



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
August 15, 2014

हरीश चन्द्र जी बड़ा ही खूबसूरत व्यंग पंद्रह अगस्त के अवसर पर बड़ा सुंदर लेख उतना ही अच्छा धर्मनिर्पक्षता की दुहाई देने वालो पर व्यंग शोभा

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    August 16, 2014

     डा, शोभा जी आभार इन बगुला भगतों को सम्मान देना ही पडता है तभी ओम शांति शांति कह सकेंगे

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
August 14, 2014

हरीश चन्द्रा जी इस अवसर पर मजेदार आलेख है । जब तक इस धरती पर नेता नाम का जीव रहेगा कुछ शब्दों पर कुश्ती जारी रहेगी और इसका फैसला कयामत के दिन तक नही होने वाला । अच्छा रोचक आलेख ।

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    August 15, 2014

    विष्ट जी आभार सब समय का खेल ही तो है मान्यता मिल ही जाती है 

jlsingh के द्वारा
August 14, 2014

हिंदुस्तान” शब्द को ही डिस्कशनरी से हटा देना उचित होगा क्यों कि भारत एक धर्म निपेक्ष देश है | इसको सिर्फ हिंदुस्तान ,पाकिस्तान युद्ध के लिए ही प्रयोग किया जाता है | या हिन्दू मुस्लमान का आभास कराने के लिए फिर जम्बूद्वीपे आर्यवर्ते भरतखण्डे का उच्चारण कैसे करोगे ओम शांति शांति शांति

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    August 15, 2014

    जवाहर जी आभार ,अजीब दास्तां ही तो है पाकिस्तान यानि पाक स्थान ,हिंदुस्तान यानि काफिर स्थान । फिर भी हम हिंदुस्तान नाम पर खुश होते हैं हिंदु शब्द हमारे शास्त्रों मै कही नही आता है संकल्प मैं कहीं हिंदु नहीं सनातन धर्म ही है जो शाष्वत है ओम शांति शांति 

sadguruji के द्वारा
August 13, 2014

आदरणीय हरिश्चंद्र जी ! दिन मंगलमय हो ! इस लेख के लिए अभिनन्दन ! आप ने सही कहा है कि-”मुस्लिम देश हिन्दुस्तानी कहते हैं तो सिर्फ हिन्दू का ही बोध होता है | जो कि राजनीतिक लाभ के लिए ही इस्तेमाल होता है |”लेख के अंत में आप ने यथार्थ स्थिति को प्रस्तुत किया है-”हम सब भारतीय हैं ,इंडियन हैं यही हमारी पहिचान होगी | हम सब इंडियन ,भारतीय बन कर ही रहेंगे ..|” भारत को नवभारत कहना ज्यादा उचित है ! “हिंदुस्तान” शब्द सुनने-कहने में बहुत प्यारा लगता है,मन में गर्व का भाव भी पैदा होता है,परन्तु सच्चाई ये है कि हमारे देश और हिन्दुओं के लिए इससे खतरनाक और हानिकारक शब्द कोई दूसरा नहीं हो सकता है ! मुस्लिम आतंकवादी हमारे देश और हिन्दुओं के खिलाफ इसे एक नफरत फ़ैलाने वाले बम के रूप में प्रयोग कर रहे हैं ! कितनी विचित्र बात है कि मुसलमान दुनियाभर में अपने को मुसलमान कहकर गौरवान्वित महसूस करते हैं और हिन्दू अपने को सेकुलर बताकर मुसलमानो की निगाह में अच्छा बनने की कोशिश करते हैं ! ये देश कायदे से धर्मनिरपेक्ष भी कहाँ बन पाया हैं ! एक सामान नागरिक संहिता जबतक लागू नहीं होगी तबतक भारत को पूरी तरह से धर्मनिरपेक्ष नहीं कहा जा सकता हैं ! आदरणीय हरिश्चंद्र जी..वेद पाठ..भागवत सप्ताह के बाद भी ये सुपरहिट शो जारी रहेगा ! विरोध और समर्थन करने वाले सभी निंदा रस का भरपूर रसास्वादन कर रहे हैं ! इस देश में यही तो सबसे सुलभ और निशुल्क में प्राप्त आनंद हैं ! हमलोग भी यूँ ही रसास्वादन करते रहेंगे और हमलोग कर भी क्या सकते हैं ! सुबह सुबह मुस्कराहट और व्यंग्य का रसास्वादन कराने के लिए आभार ! मंच पर लिखने-पढ़ने की आजादी को जयहिंद करते हुए आपको और सभी ब्लॉगर मित्रों को पंद्रह अगस्त की बधाई !

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    August 15, 2014

    सद्गुरु जी सद् भावनात्मक उद् गारों हेतु आभार ,अजीब दास्तां ही तो है पाकिस्तान यानि पाक स्थान ,हिंदुस्तान यानि काफिर स्थान । फिर भी हम हिंदुस्तान नाम पर खुश होते हैं ओम शांति शांति ही कहकर मन शांत कर लेते हैं 

pkdubey के द्वारा
August 13, 2014

अवश्य आदरणीय.भारत ही विश्व गुरु बन सकता है |

    PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
    August 15, 2014

    दुबे जी आभार ,हर  प्रगती के लिए शांति आवश्यक होती है यदि शांति कायम रख सके तो सब साकार होगा 


topic of the week



latest from jagran